Madan Maholvi

Jnaab Madan Maholvi (1936 - 2005) , was my father and `ustaad`. I learnt the taste of `Urdu Shayri` from him . An accomplished painter , sculptor and poet : Madan Maholvi was at ease and regular practitioner of multiple art forms. A student of Shimla Fine Arts college , he practiced and taught these art forms to high schoolers , under grads and teachers through his life.

Haryana Urdu Academy published his Shayri in three covers.

A masters in history and an analyst of religion, he also has huge unpublished work on "Jain Dharma in Haryana"

This online resource is a collection of his published and unpublished work .. Mostly poems and short stories ..

Fikr Ke Parinde

Fikr Ke Parinde

Published in 1989 in Devnagri script, this books is a collection of his chosen poems. The book was forwarded by Shri Khushi Ram Sharma Vashisht, then Rajya Kavi of Haryana - India. Book received critical acclaim in the local circles of Hindi & Urdu poetry. Publishing Urdu poetry in Hindi (Devnagri) script was a bold move for that time. In a way it opened the door for non Urdu natives to a new and distinct style of poetry - Nazm.

In the words of Shri Krishna chandra Paagal , a local Hindi writer and a member of Adbi sangam Kurukshetra

जगह जगह जिंदगी की सच्चाइयों, सुख-दुःख, कलह, उग्रवाद, मानवीय मूल्यों का बिखराव तथा वर्तमान की भयानक चुनौतियों के सजीव चित्र घंटों अपनी ओर देखने को मज़बूर करते हैं । सिद्धहस्त चित्रकार के सजीव रंग तथा कवि की कोमल अनुभूतियों का अनूठा सम्मिश्रण दिल की गहराइयों में अनायास ही उतरता चला जाता है

Rasta Tau Mile

Rasta Tau Mile

This is a collection of 43 poems written in a specific style of Urdu Poetry called Nazm. A Nazm is a free flowing text that explores one specific feeling or emotion. It can be topical and imbibe certain flow but the writer is free to choose or ignore the rhythm. Nazm represents a freedom from the rule based poetry. The idea is to have the writer as much leeway as she needs to express a thought. That is the reason Nazm was proclaimed to be the voice of progressive Tarakki Yafta poets. It was embraced by likes of Kaifi Azmi in his early days as an expression of the progressive movement.

The book is about self discovery. Poet seeks himself amidst the chaotic eighties of India - a struggle between hope and failures , the growing pains of the society as much as within.

In a way the poetical format - Nazm is a very apt choice for the topic at hand "Show me the path" . He is judicious with the words without compromising the freedom of the medium.

Creative commons and open source credits

This work is under creative commons licence. You are free to use , copy , redesign any which you you like as long as you visibly attribute the original as under

Title Fikr Ke Parinde or Rasta Tau Mile by Madan Maholvi (poems.shutri.com)

Licensed under Creative Commons: By Attribution 3.0

http://creativecommons.org/licenses/by/3.0/

  • The online presentation of the book is through an "open source" documentation tool "mdbook". You may click on three horizontal bars at the top left corner of the screen to open a side panel to access the poems sorted in a index style.
  • The open access project is hosted at Github

Recital

The audio recording and editing is through "open source" applications "Audacity" and "SoX". Audio files are stored at internet archive. The good thing about audio player from archive.org is it allows embedding individual tracks on web pages ; as well as all the sound tracks together kinda like a clickable playlist. Short of a podcast, I guess this is best uninterrupted audio experience ..

I am not a professional sound artist but my attempt is to invoke an eighties style "All India radio Urdu Service" audio experience. A laid back but thoughtful listening experience. I am seeking help from professional sound artists to improve upon these renditions.

Contributions

Please feel free to visit the repository at Github . You may raise issues if you see any technical or literary discrepancies. I am looking for help to translate these poems in other languages - particularly in English. I will provide technical assistance and publishing support . If you have a taste for the poetry and command on other languages , please contact me through email

You may find my rendition lacking in Urdu pronunciation or poetic style of "Nazm" renditions on. If you have a better voice for Urdu (or Hindi), please feel free to record the audio and send me in .mp3 format. I will be happy to add your rendition with due credits.

And most importantly please spread the word for these amazing poems. I truly feel they deserve a wider audience. You can download the audio for a single track or all the files in single shot from internet archive . Downloads are available in zip format or as well as a torrent . If you need files in .wav format , feel free to drop me an email

~Ashutosh~

ख्याल की कोंपल

कोई आफताब¹ चमके

न--कोई माहताब² जागे

मगर इतना तो हो

ऐ खुदा

फूटे किसी ख्याल की कोंपल

किसी महक का जन्म हो

वीरान सालों की मौत से पहले

जिन्दगी की नमनाक³ आंख में

मेरे खाब का नक्श-ए-पा⁴

ऐ खुदा,

न रास्ता बने न राहनुमा⁵

मगर कुछ देर देरपा⁶ तो हो

हमराह किसी राहगीर के

कुछ दूर तो चले-पल दो पल

फूटे किसी ख्याल की कोंपल

किसी महक का जन्म हो ।


.. 1. सूर्य 2. चन्द्रमा 3. भीगी 4. पद चिह्न

.. 5. पथ-प्रदर्शक 6. स्थायीं

Khyaal Kee Kompal

Koi Aaftaab1 Chamke

Na Koi Mahtaab2 Jaage

Magar Itna Tau Ho Ae Khuda

Foote Kisi Khyaal Kee Kompal

Kisi Mehak Kaa Janm Ho

Veeraan Saalon Kee Mout Se Pehle

Jindagi kee namnaak4 aankh mein

Mere Khwaab Kaa Nakshe-Paa5

Ae Khuda

Na rasta bane, na rehnuma5

Magar kuch der, der-paa6 tau ho

Humraah kisi raahgeer ke

Kuch der tau chale pal dau pal

foote Kisi khyaal kee Kompal

Kisi mehek kaa janm ho.


.. 1. Sooraj 2. Chandrma 3. Bheegi 4. Pad Chinh

.. 5. Path-Pradarshak 6. Sthayi

मेरा साया

दौड़ कर चलो

दरवाजे बन्द कर लो

डी-सी-एम के मोटे

गहरे रंगों वाले पर्दे

खिड़कियों पर गिरा दो

चिटखनी चढ़ा दो

क्योंकि बाहर आम रास्तों पर

कुछ लोग

बन्दूकें लिए घूमते हैं।

गोलियां चलाते हैं

कहकहे लगाते हैं

आदमी चुप हैं

माहौल इस कदर भयानक है

आदमी मरते हैं

आदमी चुप हैं

यहां तक कि

इबादतगाहों

खुदा की पनाहों में

मौत मुस्कराती है

कहक़हे लगाती है

आदमी चुप हैं

बेजुबां गोलियां चीखती हैं

ये हसीं दुनिया जैसे एक मक़तल हो

दौड़ कर चलो

दरवाजे बन्द कर लो

लगता है जैसे कोई आया है

नहीं

------ये तो मेरा साया है


भयानक है बहुत वक्त की तस्वीर मदन ।

आँख नहीं मिलती जलते हुए मंजर से ॥


१ - मंदिर ; २ - शरण ; ३ - क़त्ल करने का स्थान ;

४ - दृश्य

Mera Saya

Daud kar chalo

Daravāje banda kar lo

D C M ke moṭe

Gahare rangoan vāle parde

Khiḍakiyoan par girā do

Chiṭakhanī chaḍhaā do

Kyoanki bāhar ām rāstoan par

Kuchh log

Bandūkean lie ghūmate haian

Goliyāan chalāte haian

Kahakahe lagāte haian

Ādamī chup haian

Māhaul is kadar bhayānak hai

Ādamī marate haian

Ādamī chup haian

Yahāan tak ki

Ibādatagāhoan 1 mean

Khudā kī panāhoan 2 mean

Maut muskarātī hai

Kahakahe lagātī hai

Ādamī chup haian

Bejubāan goliyāan chīkhatī haian

Ye hasīan duniyā jaise ek maktal 3 ho

Dauḍ kar chalo

Daravāje banda kar lo

Lagatā hai jaise koī āyā hai

nahīan

------ye to merā sāyā hai


Bhayānak hai bahut vakta kī tasvīr madan ।

Āankhe nahīan milatī jalate hue manjar 4 se ॥


1- Mandir ; 2 - Sharan ; 3 - Katl Karne Ka Sthaan ;

4 - Drishya

बँटवारा

तुम चाहते हो

हम तुम जुदा हो जाएं

ये आंगन ये घर बांट लें

ये खेत खलिहान

शीशम के धने पेड़

कुछ में काट लूँ

कुछ तुम काट लो

ये मद मस्त नदियां

ये सरसब्ज़' जंगल

पहाड़ों की चोटियां

सब बांट लें

हजारों मील लम्बी दीवार गर नहीं मुमकिन

तो चलो इक लकीर खेंच लेते हैं

तुम चाहते हो गाँव गाँव बँट जाए

शहर शहर बांट लें

ये आंगन ये घर बांट लें

तुम जो कहते हो शायद ठीक ही कहते हो

अब-निबाह नहीं हो सकता

ये जमीं

चश्मे

गीत गजलें

दूर तक फैले मुरव्वत के रिश्ते

अगर तुम चाहते हो चलो बांट लो

शीशम के घने पेड़

कुछ मैं काट लूँ

कुछ तुम काट लो

लेकिन

वह अपना बूढ़ा बाप

वह जो कई सदियों से

दुनिया के दूर-ओ-दराज खित्तों पर

प्रेम और भाई चारे का

अमन और दोस्ती का

महब्बत की रोशनी का

पैगाम लेकर गया हुआ है

लौट कर आएगा

उसके हम उम्र बरगद मर चुके होंगे

दूर दूर तक

दरख्तों के साये नहीं होंगे

वह कहां बैठेगा

दीवार के साये तले?

तुम आओगे

में नहीं आऊँगा

मैं आऊंगा

तुम नहीं आओगे

चांदनी रात में बाप के गिर्द बैठे

हज़ारों बेटे

हजारों बेटियाँ

जब यह बताएंगी--कि

हम तुम जुदा हो गए हैं

सैकड़ों साल बूढ़ा बाप

ऐन मुमकिन है कि मर जाए

बूढ़े बाप का जिस्म

हड्डियां-लहू-आंखें

सब बांट लेंगे

मगर

प्यार-ओ-महब्बत का फलसफा

अमन और दोस्ती का रिश्ता

किस तरह बंटेगा

तुम चाहते हो

हम तुम जुदा हो जाएं

गांव गांव बँट जाएँ

शहर शहर बाँट लें

ये आंगन ये घर बांट लें


१- हरा भरा; २- निर्वाह ; ३- प्यार

४- हिस्सों ; ५-संदेश ; ६- वट वृक्ष

७- पूर्णरूपेण ; ८- दर्शन

Bantawra

Tum chāhate ho

Ham tum judā ho jāean

Ye āangan ye ghar bāanṭa lean

Ye khet khalihān

Shīsham ke ghane ped

Kuchh mean kāṭ loon

Kuchh tum kāṭ lo

Ye mad masta nadiyāan

Ye sarasabja़' jangal

Pahāḍaoan kī choṭiyāan

Sab bāanṭ lean

Hajāroan mīl lambī dīvār gar nahīan mumakin

To chalo ik lakīr kheancha lete haian

Tum chāhate ho gāँv gāँv baँṭ jāe

Shahar shahar bāanṭa lean

Ye āangan ye ghar bāanṭa lean

Tum jo kahate ho shāyad ṭhīk hī kahate ho

Aba-nibāha2 nahīan ho sakatā

Ye jamīan

Chashme

Gīt gajalean

Dūr tak faile muravvat3 ke rishte

Agar tum chāhate ho chalo bāanṭa lo

Shīsham ke ghane ped

Kuchh maian kāṭ loon

Kuchh tum kāṭ lo

Lekin

Vah apanā būḍhaā bāp

Vah jo kaī sadiyoan se

Duniyā ke dūra-o-darāj khittoan4 para

Prem aur bhāī chāre kā

Aman aur dostī kā

Mahabbat kī roshanī kā

Paigām5 lekar gayā huā hai

Lauṭ kar āegā

Usake ham umr baragad6 mar chuke hoange

Dūr dūr tak

Darakhtoan ke sāye nahīan hoange

Vah kahāan baiṭhegā

Dīvār ke sāye tale?

Tum āoge

Mean nahīan āūँgā

Maian āūangā

Tum nahīan āoge

Chāandanī rāt mean bāp ke gird baiṭhe

hazaron beṭe

Hajāroan beṭiyāँ

Jab yah batāeangī--ki

Ham tum judā ho gae haian

Saikaḍa़oan sāl būḍha़ā bāp

Aina7 mumakin hai ki mar jāe

Būḍha़e bāp kā jism

Haḍḍiyāan-lahū-āankhean

Sab bāanṭa leange

Magar

Pyāra-o-mahabbat kā falasafā7

Aman aur dostī kā rishtā

Kis tarah banṭegā

Tum chāhate ho

Ham tum judā ho jāean

Gāanva gāanva baँṭ jāeँ

Shahar shahar bāँṭ lean

Ye āangan ye ghar bāanṭa lean


1- harā bharā; 2- nirvāh ; 3- pyār

4- hissoan ; 5-sandesh ; 6- vaṭ vṛukṣha

7- pūrṇarūpeṇ ; 8- darshan

तू आएगी कैसे

रात के अंधेरे में

चुपके चुपके हौले हौले

तू आएगी

तो आएगी कैसे

इक रात है अंधेरी

पुर पेच राहों पे

पत्थर हैं काँटे हैं

साये भूत से दरख़्तों के

खड़ाके खुश्क खुश्क पत्तों के

हवा के तेज तेज झोंके

आँचल से लिपट कर

तेरी राह रोकेंगे

तू आएगी -- आएगी कैसे

सुनसान सड़कों पर

बियाबान सड़कों पर

शहर के आवारा कुत्ते

कुत्तों की सदाएँ

ख़ौफ़ जी पे छाएगा

पाँव लड़खड़ाएंगे

तू आएग़ी

आएगी कैसे ?

यूँ तो

तेरे और मेरे दरमियाँ

थोड़ा सा फ़ासला है

मगर मेरे गिरदो नवाह , दूर तक

टूटे फूटे झोंपड़ों का लम्बा सिलसिला है

उरियाँ नीम-उरियाँ बदन

बौसीदा हड्डियाँ

हड्डियों के जिस्म

बेनूर चेहरे

बुझी बुझी सी आँखें

मुफ़लिसों के जमघट हैं

गोया हसरतों १० के पनघट हैं

हज़ारों फ़ाकाकश ११ मासूम बच्चे

मेरे आसपास रहते हैं

मुझे अपना समझते हैं

गुजर कर इन तंग़ो-तारीक१२गलियों से

तू आएगी

मेरे ख़यालों की परी

बहुत मुश्किल सा लगता है

मगर

ना जाने क्यों फिर भी

दीये की कांपती सी लो कहती है

तू आएगी

तू ज़रूर आएगी


१- टेढ़ी मेढ़ी; २- आवाज़ें ; ३- डर ;

४- आसपास ५- नग्न ; ६- अर्ध नग्न ;

७- जीर्ण शीर्ण ८- निर्धनों ; ९- जैसे की ;

१०- इच्छाओं; ११- भूखे ; १२- संकरी और अंधेरी

Tu Aaygi Kaise

Rāt ke andhere mean

Chupke chupke haule haule

Tū āeygī

To āeygī kaise

Ik rāt hai aandherī

Pur pech1 rāhoan pe

Patthar haian kānṭe haian

Sāye bhūt se darakhatoan ke

Khaḍaāke khushk khushk pattoan ke

Havā ke tej tej zoanke

Āaanchal se lipaṭ kara

Terī rāh rokeange

Tū āeygī -- āeiygī kaise

Sunasān saḍakoan par

Biyābān saḍakoan par

Shahar ke āvārā kutte

Kuttoan kī sadāen2

Khauf3 jī pe chhāyegā

Pāanv laḍakhaḍaāeange

Tū āeygaī

Āeygī kaise ?

Yūँ to

Tere aur mere daramiyāँ

Thoḍaā sā faāsalā hai

Magar mere girdo-navāh4 , dūr tak

Ṭūṭe fūṭe zhompaḍoan kā lambā silasilā hai

Uriyāँ 5 nīm-uriyāँ 6 badan

Bausīdā 7 haḍḍiyāँ

Haḍḍiyoan ke jism

Benūr chehare

Buzī buzī sī āँkhean

Mufa़lisoan 8 ke jamaghaṭ haian

Goyā 9 hasaratoan 10 ke panaghaṭ haian

Hajaāroan faākākash 11 māsūm bachche

Mere āsapās rahate haian

Muze apanā samazate haian

Gujar kar in tango-tārīk12 galiyoan se

Tū āegī

Mere khayāloan kī parī

Bahut mushkil sā lagatā hai

Magar

Nā jāne kyoan fir bhī

Dīye kī kāanmpatī sī lo kahatī hai

Tū āegī

Tū jarūr āegī


1- Tedhi Medhi; 2- Aavazon; 3- Dar;

4- Aaspaas; 5- Nagn; 6- Ardh Nagn;

7- Jeern Sheern; 8- Nirdhanon; 9- Jaise Kee;

10- Ichaon; 11- Bhookhe; 12- Sankari aur Andheri;

रतजगों का मौसम

रतजगों का मौसम है

आओ हम भी

एक रात, पलकों पर गुजार दें।

कोई साज'

तुम

उठाओ

कोई साज मैं

एक गीत गुनगुनाऊं मैं

एक गीत तुम

सर-ए-राह² कहीं पत्थरों पे बैठकर

पत्थरों से बात हो

बस इस तरह तमाम रात हो

रात बस

एक रात छोड़ दें

जहरीले नाग

अपना चलन³

बादलों में डूब जाएँ

हसीं आरज़ूओं⁴ के बदन

दूर तक हलकी हलकी

अधखिली कलियों की महक

जाम हों छलके हुए

कदम हों बहके हुए

किनारे तोड़ कर बहने लगे

मदिरा की नदी

मन की चाहत

तन की हाजत⁵

डूब कर बह जाए

गुनाहों की मुकम्मिल⁶ इक सदी

रात इक सदी⁷ की रात है

रात

इस युग की आखरी हो रात

और शायद

अपनी मुलाकात भी दोस्त !

तेज से तेजतर कर दो

गीतों की सदा⁸

पत्थर सभी पिघलें

सभी जल जाएं

न मन्दिर बचे कोई

न गिरजा, न गुरुद्वारा

हवाओं में घुल मिल जाए

मस्जिद का हर एक मीनारा

चांदनी रातें

बेल, बूटे, पहाड़

खुदानुमा⁹ पत्थर

जवां दिलकश¹⁰ बहारें

सब पुकारें

आने वाले कल से

कोई रिश्ता न हो

इस रात का

ये बदी की रात है।

इक सदी की रात है

आओ पलकों पर गुजार दें

कोई साज तुम उठाओ

कोई साज मैं

रतजगों का मौसम है

तेज से तेजतर कर दो गीतों की सदा


1 -वाद्ययन्त्र; 2- पथ के किनारे; 3- चरित्र;

4- सुन्दर इच्छाओं; 5- आवश्यकता; 6- पूर्ण;

7- शताब्दी; 8- आवाज; 9- ईश्वर सदृश्य;

10- दिल लुभाने;

Ratjagon Ka Mausam

Ratajagoan kā mausam hai

Āo ham bhī

Ek rāta, palakoan par gujār dean।

Koī sāj'

Tum

Uṭhāo

Koī sāj maian

Ek gīt gunagunāūan maian

Ek gīt tum

Sara-e-rāha² kahīan pattharoan pe baiṭhakara

Pattharoan se bāt ho

Bas is tarah tamām rāt ho

Rāt basa

Ek rāt chhoḍ dean

Jaharīle nāg

Apanā chalan³

Bādaloan mean ḍūb jāeँ

Hasīan āraja़ūoan⁴ ke badan

Dūr tak halakī halakī

Adhakhilī kaliyoan kī mahak

Jām hoan chhalake hue

Kadam hoan bahake hue

Kināre toḍa़ kar bahane lage

Madirā kī nadī

Man kī chāhata

Tan kī hājata⁵

Ḍūb kar bah jāe

Gunāhoan kī mukammil⁶ ik sadī

Rāt ik sadī⁷ kī rāt hai

Rāt

Is yug kī ākharī ho rāt

Aur shāyad

Apanī mulākāt bhī dost !

Tej se tejatar kar do

Gītoan kī sadā⁸

Patthar sabhī pighalean

Sabhī jal jāean

Na mandir bache koī

Na girajā, n gurudvārā

Havāoan mean ghul mil jāe

Masjid kā har ek mīnārā

Chāandanī rātean

Bel, būṭe, pahāḍ

Khudānumā⁹ patthar

Javāan dilakasha¹⁰ bahārean

Sab pukārean

Āne vāle kal se

Koī rishtā n ho

Is rāt kā

Ye badī kī rāt hai।

Ik sadī kī rāt hai

Āo palakoan par gujār dean

Koī sāj tum uṭhāo

Koī sāj maian

Ratajagoan kā mausam hai

Tej se tejatar kar do gītoan kī sadā


1 -vādyayantr; 2- path ke kināre; 3- charitr;

4- sundar ichchhāoan; 5- āvashyakatā; 6- pūrṇa;

7- shatābdī; 8- āvāj; 9- īshvar sadṛushya;

10- dil lubhāne;

तुम ख़ुदा भी हो

तुम खुदा भी हो

और ये शायद

इस क़दर जरुरी भी नहीं

हजूर तुम साफ क्यों नहीं कहते

खुदा कि तुम खुदा भी हो

तेरा नाम लेकर, हर बात हो

दिन खत्म हो

रात की शुरूआत हो

मगर क्यों नहीं कहते

तुम मयकशों¹ के साथ रहते हो

कभी सागर कभी मीना² कभी साकी³

और ये मयखाना⁴ भी तेरा है

ऐशगाहों⁵ में तुझे अक्सर

महव-ए-रक्स⁶ देखा है

लोग कहते हैं- मगर

तुम-इन सब से जुदा भी हो

खुदा कि तुम खुदा भी हो

जमना के किनारे घूमते

हो बे-नयाजो⁷ ओ बे-फिक्र

लगता है ग्वालों से तेरा

कोई रिश्ता भी है

इन सभी के बीच शायद

इक तेरी राधा भी है

आंखों में बसे

सपनों की तरह

तुझे अपना समझते हैं

वो अपनों की तरह

भंवरे-फूल-कलियां

जमना-रेत और माटी

तुम सब में बसते हो

जलजले⁸ तूफां-आंधियां,

मैदाने जंग

गुरु-भाई और बेटे

तीर-शंख-नाद, और

जंग के सुर्ख

बादल भी तेरे हैं

लड़ो और

तुम खुद भी लड़ते हो

अमल⁹ को अव्वल¹⁰ समझते हो

मिटाते हो कभी

कभी खुद तामीर¹¹ करते हो

मंजिल भी मुसाफिर भी

तुम रहनुमा¹² भी हो

खुदा कि तुम खुदा भी हो

बरग -ओ-बार¹³

ये शजर¹⁴

नदियां-आबशार¹⁵

समुन्दर-चांद और ज़मी

उजड़े हुए मकां

टूटे हुए यकीं¹⁶

मुझ में और

मेरे फनकार में

जब तुम-खुद ही, तो हो मकीं ¹⁷

तो फिर- हुजूर

साफ क्यों नहीं कहते

और ये शायद

इस क़दर जरुरी भी नहीं कि

हाथ उठें और दुआ भी हो

खुदा कि तुम खुदा भी हो ।


1- शराबियों; 2- शराब का पात्र;

3- मधुबाला; 4- मधुशाला ;

5- विलास का स्थान; 6- नाच में लीन;

7- निर्लिप्त; 8- भूकंप ;

9- कर्म ; 10- मुख्य; 11- बनाना ;

12- रहनुमा ; 13-पत्ते और फल 14- वृक्ष ;

15- झरना ; 16-विश्वास ; 17- रहना

Tum Khuda Bhi Ho

Tum khudā bhī ho

Aur ye shāyada

Is ka़dar jarurī bhī nahīan

Hajūr tum sāf kyoan nahīan kahate

Khudā ki tum khudā bhī ho

Terā nām lekar, har bāt ho

Din khatma ho

Rāt kī shurūāt ho

Magar kyoan nahīan kahate

Tum mayakashoan¹ ke sāth rahate ho

Kabhī sāgar kabhī mīnā² kabhī sākī³

Aur ye mayakhānā⁴ bhī terā hai

Aishagāhoan⁵ mean tuze aksar

Mahava-e-raksa⁶ dekhā hai

Log kahate haian- magar

Tuma-in sab se judā bhī ho

Khudā ki tum khudā bhī ho

Jamanā ke kināre ghūmate

Ho be-nayājo⁷ o be-fikra

Lagatā hai gvāloan se terā

Koī rishtā bhī hai

In sabhī ke bīch shāyad

Ik terī rādhā bhī hai

Āankhoan mean base

sapanoan kī tarah

Tuze apanā samazate haian

vo apanoan kī taraha

Bhanvare-fūla-kaliyāan

jamanā-ret aur māṭī

Tum sab mean basate ho

Jalajale⁸ tūfāan-āandhiyāan,

maidāne janga

Guru-bhāī aur beṭe

Tīr-shankha-nād, aur

Janga ke surkha

bādal bhī tere haian

Laḍa़o aur

Tum khud bhī laḍa़te ho

Amal⁹ ko avval¹⁰ samazate ho

Miṭāte ho kabhī

Kabhī khud tāmīr¹¹ karate ho

Manjil bhī musāfir bhī

Tum rahanumā¹² bhī ho

Khudā ki tum khudā bhī ho

Barag -o-bār¹³

Ye shajar¹⁴

Nadiyāan-ābashār¹⁵

Samundar-chāand aur jamīn

Ujaड़e hue makāan

Ṭūṭe hue yakīn¹⁶

Muz mean aur

Mere fanakār mean

Jab tuma-khud hī, to ho makīn ¹⁷

To fir- hujūr

Sāf kyoan nahīan kahate

Aur ye shāyad

Is ka़dar jarurī bhī nahīan ki

Hāth uṭhean aur duā bhī ho

Khudā ki tum khudā bhī ho ।


1- sharābiyoan; 2- sharāb kā pātr;

3- madhubālā; 4- madhushālā ;

5- vilās kā sthān; 6- nāch mean līn;

7- nirlipt; 8- bhūkanmp ;

9- karma ; 10- mukhy 11- banānā ;

12- rahanumā ; 13-patte aur fal

14- vṛukṣha ; 15- zharanā ;

16-vishvās ; 17- rahanā

मैं हूँ

रेस्तोरों¹ के खुशनुमा हाल में

भीड़ भरे रस्तों पर

दुकानों सिनेमा घरों

गलियों के पुरपेच² जाल में

बसों

रेलवे अस्टेशनों पर

कचहरी

सचिवालय

खेत-खलियान

बागों में खेलते हुए

फुटपाथ पर चलते

दर्सगाहों³ में

खुदा की पनाहों में

छत-आंगन-दरवाजे

घर के अन्दर

एक शोला लपकता है

एक जिस्म

हिन्दु का जिस्म

मुस्लमां का जिस्म

सिख का जिस्म

एक जिस्म

कटे हुए दरख्त की तरह

गिरता है

मरने वाला कौन है ?

हर एक पूछता है

मगर

मुझे लगता है-कि मैं हूँ


इक दीया हूं किसी कुटिया में जलाओ मुझको ।

अच्छा नहीं लगता सर-ए-बज्म⁴ फरोजां⁵ रहना ।


1- होटल; 2-टेढ़ी मेढी; 3-विद्यालयों;

5-महफिल में; 6-चमकना अर्थात जलना;

Main Hoon

Restoran¹ ke khushanumā hāl mean

Bhīd bhare rastoan par

Dukānoan cinemā gharoan

Galiyoan ke purapech² jāl mean

Bason

Railway stations par

Kachaharī

Sachivālaya

Kheta-khaliyān

Bāgon mean khelte hue

Footpath par chalate

Darsagāhon³ mean

Khudā kī panāhon mean

Chhat-āangana-daravāje

Ghar ke andar

Ek sholā lapakatā hai

Ek jism

Hindu kā jism

Muslamāan kā jism

Sikh kā jism

Ek jism

Kaṭe hue darakhta kī tarah

giratā hai

Murne vālā kaun hai ?

Har ek pūchhatā hai

Magar

Muze lagatā hai-ki maian hūँ


Ik dīyā hūan kisī kuṭiyā mean jalāo muzako

Achchhā nahīan lagatā sara-e-bajm⁴ farojāan⁵ rahana


1- Restaurant; 2-ṭeḍh़ī meḍhī; 3-schools;

5-mahafil mean; 6-chamakanā arthāt jalanā;

वातायन

फिक्र के परिन्दे शीर्षक संग्रह मदन की उर्दू कविताओं का प्रथम संग्रह है। हर्ष का विषय है कि कवि इसे नागरी लिपि में प्रकाशित करवा रहा है। हमें आशा है कि इस से उस के पाठकों के क्षेत्र की व्यापकता में आशानुकूल वृद्धि होगी और विशाल हिन्दी-प्रेमी जन समूह इस का रसास्वादन कर सकेगा ।

संग्रह की अधिकांश कविताओं में कवि मदन जैन समसामयिक समस्याओं तथा ज्वलन्त प्रश्नों से जूझता दिखाई देता । पड़ोसी राज्य में घटित होने वाली दुःखद घटनाओं, बदली हुई अन्तर्राष्ट्रीय परिस्थितियों तथा राजनैतिक और सामाजिक परिवेश - सब का जायजा लेता हुआ दृष्टिगत होता है ।

आज का माहौल इतना भयानक हो गया है मनुष्य अपने साये से भी भयभीत है। संग्रह की कि अनेक कविताओं में संशय, भय, संत्रास-जन्य परिस्थि तियों के कई वास्तविक चित्र उभर कर सामने आते हैं। कवि को शब्द-चित्रों द्वारा अपनी बात कहने मे यथेष्ट सफलता मिली है। उस के कई चित्र हृदय-पटल पर अंकित होकर दीर्घकाल के लिए अपनी छाप छोड़ने में सफल हुए हैं।

एक चित्र देखिए :

माहौल किस क़दर भयानक है।

आदमी मरते हैं।

आदमी चुप हैं

यहाँ तक कि इबादतगाहों में

ख़ुदा की पनाहों में

मौत मुस्कराती है कहकहे लगाती है।

आदमी चुप हैं बेजुबां गोलियाँ चीखती हैं

ये हसीं दुनिया जैसे एक मकतल हो

लगता है जैसे कोई आया है

नहीं यह तो मेरा साया (मेरा साया)

"बँटवारा" शीर्षक रचना इस संग्रह की सर्व श्रेष्ठ रचनाओं में से एक है। बँटवारे की आशंका मात्र से कवि का व्यग्र तथा उद्विग्न हो उठता है । यह विशाल देश सारे का सारा अपना है। खेत खलिहान, शीशम के पेड़, मदमस्त नदियां सरसब्ज जंगल, पहाड़ों की चोटियाँ किस किस चीज का बँटवारा होगा। गांव-गाँव, घर-घर शहर शहर कैसे बॅट सकेंगे ? जमीन, चश्में, गीत-गजलें कैसे बॅट सकेंगी-सब ! और जब वह बूढ़ा बाप जो विश्व भर में अमन और शान्ति का पैग़ाम लेकर गया हुआ है लौटकर आएगा तो क्या देखेगा ? यही न कि हम तुम जुदा हो गए हैं। हम बूढ़े बाप का जिस्म, हड्डियाँ, लहू, आँखें सब बाँट लेंगे ।"

"मगर

प्यार और मुहब्बत का फलसफा

अमन और दोस्ती का रिश्ता

किस तरह बँढेगा !" --"बँटवारा"

संग्रह की अधिकांश रचनाएँ विचारोत्तेजक है। मदन जैन को इस भयानक माहौल में भी मनुष्य की महानता पर गर्व है। अफ्रीका के लोगों के साथ साथ वह भी दस मील लम्बी दौड़, दौड़ रहा है ।

देखिए :

"मैं और

मेरे अन्दर जो एक शायर है।

तेरे साथ साथ भाग रहे हैं।

दस मील लम्बी दौड़ ही नहीं

बल्कि बहुत लम्बी दौड़

कुरुक्षेत्र के मैदाने जंग से

तेरे जलते हुए सहराओं तक

लगातार

शाम-ओ सहर"

(कुरुक्षेत्र के मैदान-ए-जंग से)

मास्को से अमन का संदेश देने वाले विश्व के महान नेता मिखाइल गोर्वाचेव के नाम लिखित कविता की निम्न लिखित पंक्तियाँ विशेष रूप से पठनीय हैं जिनमें कवि ने मनुष्य की महानता को स्वीकार किया है :

तुम इक आदमी हो

और हर आदमी के लिए

जिन्दगी के लिए

उम्मीद के हसीं पलों की तरह हो

बेकरां समन्दर, बेबादबां कश्तियाँ,

आंधियाँ

गिरदाब-ए-बला में

तुम साहिलों की तरह हो

(अज़ीमतर)

कवि देश के कोटि-कोटि, दीन हीन, बेसहारा अर्द्धनग्न लोगों को कभी विस्मृत नहीं कर सका । -

देखिए

मेरे गिरद-ओ-नवाह दूर तक

टूटे फूटे झोंपड़ों का लम्बा सिलसिला है।

उरियाँ नीम-उरियाँ बदन वोसीदा हड्डियाँ

हड्डियों के जिस्म

बेनूर चेहरे

बुझी बुझी सी आँखें

मुफलिसों के जमघट हैं

गोया हसरतों के पनघट हैं

हज़ारों फाकाकश मासूम बच्चे

मेरे आसपास रहते हैं

मुझे अपना समझते हैं

(तू आएगी कैसे)

मदन जैन की भाषा में चित्रात्मकता का बाहुल्य है । कहीं कहीं तो वह कुछ वस्तुओं अथवा प्राकृतिक दृश्यों का नामोल्लेख करके ही एक संश्लिष्ट चित्र निर्मित कर देता है। ऐसा ही एक संश्लिष्ट चित्र देखिए :

रास्ते मोड़

शाम-ओ-सहर

मंजिलें और मुसाफिर

बादे सबा फूल कलियाँ शजर

हसीं शहज़ादियाँ जुल्फे शोख रंग आंचल

मुहब्बत की हर दास्तां

आग की दहकती हुई भट्टियाँ

मजदूर और दहकां

एक इक धमाके से

कौस-ए-कजाह के शोख रंग

और ये सब – सब कुछ

बादलों में घुल जाएंगे ।

(अजीमतर)

मदन जैन जिन्दगी से प्यार करता है, उससे डर नहीं भागता । वह प्यार की एक रात को एक सदी के जीवन से अधिक मूल्यवान समझता है। "रत जगों का मौसम" शीर्षक कविता इस संग्रह की एक सशक्त रचना है। इस की निम्न पंक्तियाँ द्रष्टव्य हैं:

रात

इस युग की आखरी हो रात

और शायद

अपनी मुलाकात भी दोस्त !

इस रचना की चित्रात्मकता भी देखने योग्य है।

मन्दिर का हर एक मीनारा

चाँदनी रातें

बेल, बूटे, पहाड़

खुदानुमा पत्थर

जवां दिलकश बहार

सब पुकारें

आने वाले कल से कोई रिश्ता न हो

इस रात का

'ख्वाब' 'शहर' 'बागी था महावीर' और "क्या नाम दू" - इस संग्रह की कुछ अन्य सशक्त रचनाएँ हैं ।

मदन जैन कला-शिक्षक तथा कला प्रेमी है; अतः उस की रचनाओं का कलात्मक होना स्वाभाविक है। वह जानता है कि अपनी बात कहाँ समाप्त करनी है और उसके बाद वह एक शब्द भी जोड़ना उचित नहीं समझता । अतुकान्त कविता पर कवि का पूरा अधिकार है। कविताओं में प्रवाह के साथ साथ एक आन्तरिक लय विद्यमान रहती है। हमें पूर्ण आशा है कि जैन की कला पर दिन प्रतिदिन और निखार आता जाएगा ।

अन्त में हम इस संग्रह के प्रकाशन पर कवि को हार्दिक बधाई देते हैं तथा उसे विश्वास दिलाते हैं कि उर्दू तथा हिन्दी दोनों भाषाओं के पाठक इस का समान रूप से स्वागत करेंगे । मदन जैन हरियाणा की जदीद उर्दू शायरी में जल्द ही अपना स्थान बना सकेगा और उस की रचनाओं को स्थायित्व प्राप्त हो सकेगा - इस के साथ ही हम इस वक्तव्य को समाप्त करते हैं ।

ज्योतिनगर,

कुरुक्षेत्र,

बुद्ध पूर्णिमा ( सम्बत् २०४६ )

खुशीराम वाशिष्ठ (राज्य कवि हरियाणा)

दृष्टिकोण

मदन जैन का काव्य संग्रह "फिक्र के परिन्दे” पढ़ा। जगह जगह जिंदगी की सच्चाइयों, सुख-दुःख, कलह, उग्रवाद, मानवीय मूल्यों का बिखराव तथा वर्तमान की भयानक चुनौतियों के सजीव चित्र घंटों अपनी ओर देखने को मज़बूर करते हैं । सिद्धहस्त चित्रकार के सजीव रंग तथा कवि की कोमल अनुभूतियों का अनूठा सम्मिश्रण दिल की गहराइयों में अनायास ही उतरता चला जाता है

कहकशां, नाजुक तितलियां

शबनम और सफेद मोती

फूल और खुशबू

या -सरे मिज़गां ठहरा हुआ आँसू

चुप हैं अजंता की बोलती तस्वीरें

शायद यहां जिंदगी लिबास बदलती है।

मंजिलें बहुत करीब हैं शायद

(अल्फ नंगी)

एक और चित्र :

शोर - बूटों के खड़ाके

सोचो साल माह और दिन

जो कयामत के दिन हैं

जिस दिन रूहें कब्रों से निकलेंगी

शायर और ताजर रूहें

बेबस और जाबर रूहें

( फना की तारीख)

काव्य और चित्रकला की सुकुमारता के अतिरिक्त कवि जगह जगह वर्तमान से भी साक्षात्कार करता हुआ दिखाई देता है :

कुछ समझ नहीं आता

कहां से आ गए

लहू रंग बादलों के हुजूम

(लहू रंग बादलों के हुजूम)

दूर दूर तक ताहद्दे नजर

सुर्ख सुर्ख है जमीन का जिस्म

लगता है ख्यालात भी जल जाएंगे

(ख्यालात भी जल जाएंगे)

हिन्दु का जिस्म – सिख का जिस्म

मुस्लमान का जिस्म

एक जिस्म-आदमी का

कटे हुए दरख्त की तरह गिरता है।

मरने वाला कौन है ?

हर कोई पूछता है

मगर- –मुझे लगता है कि—में हूँ ।

(मैं हूँ )

इतिहास के विद्यार्थी श्री जैन ने अपनी कविता का तानाबाना अक्सर धार्मिक एवं ऐतिहासिक वीर पुरुषों के संदर्भों से बुना है । कवि पाठकों को अनेक नगरों, युद्ध स्थलों तथा ऋषि मुनियों के दर्शन करवाता है जैसे महाभारत, कलिंग, सायबेरिया |

सिकन्दर और पोरस का युद्ध, राम और कृष्ण, महावीर, बुद्ध, ईसा, नानक, बाबरो अकबर, नादरो अबदाली, गोर्वाचोव इत्यादि । इतिहास, दर्शन एवं धर्म का काव्यमय चित्रण सचमुच कवि के विस्तृत ज्ञान का परिचायक है, सभी कविताओं में भाव, भाषा, प्रवाह, शैली एवं शब्दचयन का अनूठा सामञ्जस्य दृष्टिगोचर होता है ! प्रत्येक कविता एक बात कहती है; एक नई बात जो सुन्दर भी है और प्यारी भी ! जिस में चिंता और चिंतन के पक्षी असीम ऊँचाइयों तक उड़ानें भरते हुए चाँद, सूरज, कहकशां बिजलियां और एटमी धूल से साक्षात्कार करते हैं और जमीन पर रेत, मिट्टी, फूल-कलियां, शीशम और बटवृक्षों की मीठी शीतल छाया से होकर गुजरते हैं । इन के साथ साथ उड़ता है है सच्चा जागरूक कवि । कवि के साथ उड़ानें भर कर मुझे भी हार्दिक आनन्द मिला है इसके लिए चाहे श्रम भी करना पड़ा है, मुझको ! उड़ानें वास्तव में बहुत ऊँची हैं।

जैन के शब्दों में

आसां नहीं जो पहुँचे तुझ तक कोई 'मदन'

तेरे ख्याल आजकल उकाबों से हो गए ।

मेरे दृष्टिकोण से "फिक्र के परिन्दे" उच्चकोटि का काव्यसंग्रह है जिस के लिए श्री मदन जैन बधाई के पात्र हैं। समस्त साहित्य जगत् इस का स्वागत करेगा । ऐसा मेरा विश्वास है ।

कृष्ण भवन

231/3 सब्जीमंडी-कुरुक्षेत्र

कृष्ण चन्द्र पागल

यात्रा

सातवीं कक्षा को बात है, पहली कहानी लिखी। कहानी सम्भवतः निम्नस्तरीय रही होगी जिस के लिये उत्साह एवं प्रेरणा जैसा कोई शब्द याद नहीं आता, परन्तु मां सरस्वती के चरण कमलों में यह मेरा प्रथम नमन था। यहीं से एक सिलसिला चला साहित्य सेवा का । नवम् कक्षा तक आते आते बहुत बड़े विद्यालय के छात्र सचिव का कार्यभार सँभालने का अवसर प्राप्त हुआ। मंच पर आते ही छात्र, अध्यापक, नगर एवं घर के सभी लोग “मदन फ़रियादि " के नाम को जानने एवं प्यार करने लगे ।

सन् 1951-52 के आसपास पंजाब में साहित्य सभाओं के गठन का एक दौर सा चला। नगर नगर में साहित्य सभाओं का गठन हुआ ! मेरे अग्रज श्री अमृत लाल जैन (आजकल एस. डी. एम. नूरपुर) की अभिरुचि भी लेखन में होने के कारण हमारे नगर (अहमदगढ़) में साहित्य सभा के गठन का गौरव मेरे निवास स्थान को प्राप्त हुआ—इस दैवयोग के बाद उच्च कोटि के कथाकारों तथा कवियों का सम्पर्क प्राप्त होने लगा, मासिक गोष्ठियों और कवि-दरबारों से शौक-ओ-जौक में खूब रंग आने लगा ।

मैट्रिक पास करते ही उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिये सन् 1954 में गव० कालेज मालेरकोटला में प्रवेश लिया। पढ़ाई की अपेक्षा नगर में होने वाले "कुल हिन्द मुशायरों" में अधिक रुचि लेने लगे । शायरी के अदबो आदाब से जानकारी बढ़ने लगी ।

चन्द मुशायरों में पढ़ने का अवसर भी प्राप्त हुआ तथा पंजाब के जानेमाने कवि जनाव नानक चन्द नाज़, अस्तर रिज़वानी, प्रेम वारबर्टनी तथा दर्द नकोदरी साहिब से हल्की सी मुलाकात भी हुई, मगर यह सिलसिला देर तक न चल सका । अचानक फाईन आर्ट की शिक्षा प्राप्त करने का जबर्दस्त दौरा पड़ा और कालेज की पढ़ाई छोड़ कर गवरनमेंट स्कूल आफ आर्ट पंजाब, शिमला में प्रवेश ले लिया। जीवन की प्रत्येक गतिविधि कला और साहित्य को समर्पित कर दी गई ।

फिर उस समय जब, कला की शिक्षा प्राप्त कर शिमला की पहाड़ियों से मैदानों में उतरे तो लगा मानो युद्ध क्षेत्र में उतर आये हों । मध्यवर्ग की सभी विकट समस्याओं ने बाहें फैला कर स्वागत किया । नौकरी की तलाश, दफ्तरों के चक्कर, आर्थिक अभाव, कुण्ठाएँ , भ्रष्टाचार से साक्षात्कार, कोमल अनुभूतियों तथा आकांक्षाओं ने चैन से बैठने नहीं दिया, आखिर बैठते भी तो कहां ?

साये कहां थे राह में जो बैठते "मदन' "

हम ने किये सफर बहुत सख्तियों के साथ ॥

कुरुक्षेत्र में कई वर्षों से गुमनामी की जिन्दगी गुज़ार रहा था कि "आकार" नामी एक स्थानीय संस्था ने मेरी एक कहानी "हडिड्यों का व्योपारी" को पुरस्कृत किया (1985) , इस के साथ ही एक कविता "ख्यालात भी जल जाएंगे" ,"मदन लाल जैन" के नाम से "सशत " हिन्दी मासिक (1986) में छपी ! बस इस के साथ ही कुरुक्षेत्र के साहित्य प्रेमियों की नज़र मुझ पर पड़ी। आदरणीय "दोस्त भारद्वाज साहिब" की कृपा से अदबी संगम कुरुक्षेत्र से जुड़ गया और आज तक जुड़ा हुआ हूँ ।

आभार

फिक्र के परिन्दों को काव्य संग्रह तक की यात्रा पूर्ण करने के लिए जिन प्रियजनों के आशीर्वाद की मीठी घनी छाया मिली उन में हैं श्री खुशी राम जी वाशिष्ठ राज्यकवि हरियाणा, राज्यकवि प्रो० उदय भानु हंस, जनाब साबिर अबोहरी, प्रो० राना गन्नोरी, श्री बाल कृष्ण बेताब, श्री कृष्ण चन्द्र पागल, प्रो० हिम्मत सिंह जैन, श्री दोस्त भारद्वाज, श्री शेखर जैन, श्री जिनेन्द्र कुमार जैन, श्री जगदीश चन्द्र शास्त्री, उर्दू मरकज तथा अदबी संगम कुरुक्षेत्र के सभी मित्र । स्नेह एंव सहायता के लिए "फिक्र के परिन्दे" इन के साथ प्रिय आशुतोष और गुड ओ-मेन् प्रिन्टर्स, कुरुक्षेत्र के भी हार्दिक आभारी हैं ।

और मैं 'मदन जैन' उन अनन्त ख्यालों, घटनाओं, खामोश आंखों, शहरों, जंग के बादलों, परिन्दों, पराग और फूलों के अतिरिक्त सभी ईमानदार संघर्षों का आभारी हूँ जो मुझे कविता बुनने की प्रेरणा देते हैं ।

जैन भवन

विष्णु कालोनी

कुरुक्षेत्र

मदन जैन

Jagta Patthar

Rasta

Hum Dono

Us Paar

Khushbu

Lunch Time

Bol Kavi

Lekin

Us Ne

Koi Tau Pata Hoga

Yoon Hi Khada Hoon

Kis Liye

Ek Kabira